24 साल की उम्र में बनी सबसे पढ़ी-लिखी महिला सरपंच, MBBS की कर रही है पढ़ाई

हमारे देश में महिलाएं हर क्षेत्र में आगे बढ़ रहे हैं। महिलाओं को आगे बढ़ने के लिए हर क्षेत्र में उचित स्थान मिल रहा है और उन्हें अवसर भी मिल रहे हैं। महिलाएं भी इस अवसर का अच्छा उपयोग करके अपने आपको समाज के समक्ष सही साबित करने में सफल हो रहे हैं। खेल से लेकर रक्षा के क्षेत्र में भी महिलाएं अपने नाम का झंडा बुलंद कर रही है।

अब महिलाएं राजनीति में भी बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं और कामयाब होकर दिखा रहे हैं। ऐसी ही एक 24 साल की युवती के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं जो सरपंच बन चुकी है और सबसे पढ़ी-लिखी सरपंच है।

24 साल की उम्र में बनी सबसे पढ़ी-लिखी महिला सरपंच, MBBS की कर रही है पढ़ाई
24 साल की उम्र में बनी सबसे पढ़ी-लिखी महिला सरपंच, MBBS की कर रही है पढ़ाई

ईस तरह से रखा राजनीति में कदम

जिस घटनाक्रम के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं यह घटना राजस्थान के मेवात इलाके की है। राजस्थान के मेवात की रहने वाली शहनाज खान सरपंच के पद के लिए चुनी गई है। शहनाज खान एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही है और उनका जन्म मेवात के एक छोटे से गांव में हुआ था। हालांकि उन्होंने अपना पूरा बचपन शहर में रहकर बिताया और पढ़ाई भी शहर से ही की लेकिन उनकी यादें और उनकी पहचान उनके गांव से हमेशा जुड़ी रही।

जिस गांव से वह सरपंच चुनी गई उस गांव में उनके दादा किसी समय सरपंच हुआ करते थे लेकिन साल 2017 में उन्हें उसे क्षेत्र से चुनाव लड़ने का अवसर नहीं मिला इसलिए शहनाज अपने दादा की जगह पर चुनाव में खड़ी हो गई।

24 साल की उम्र में बनी सबसे पढ़ी-लिखी महिला सरपंच, MBBS की कर रही है पढ़ाई
24 साल की उम्र में बनी सबसे पढ़ी-लिखी महिला सरपंच, MBBS की कर रही है पढ़ाई

एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही है शहनाज

आमतौर पर हम देखते हैं कि पढ़ाई लिखाई करने वाले लोग राजनीति में ज्यादा ध्यान नहीं देते और दखल भी नहीं देते। ज्यादातर महिलाएं तो बिल्कुल ही राजनीति से दूर रहती है। लेकिन शहनाज एमबीबीएस की पढ़ाई करने के बावजूद भी डॉक्टरी के क्षेत्र में ना जाते हुए उन्होंने राजनीति के माध्यम से अपने गांव के लोगों की सेवा करने का रास्ता चुना।

इस रास्ते पर चलने के लिए उन्होंने अपना पक्का मन बनाया और चुनाव में खड़ी हो गई। शहनाज को भी जनता का काफी सहयोग मिला और जनता ने उन्हें सरपंच के पद पर आसीन कर दिया।

24 साल की उम्र में बनी सबसे पढ़ी-लिखी महिला सरपंच, MBBS की कर रही है पढ़ाई
24 साल की उम्र में बनी सबसे पढ़ी-लिखी महिला सरपंच, MBBS की कर रही है पढ़ाई

गांव की महिलाओं के लिए काम करना चाहती हैं शहनाज

सरपंच बनने के बाद शहनाज ने कहा कि वह अपने गांव के लिए कुछ नया करना चाहती है। उन्होंने बताया कि रोटी कपड़ा और मकान जैसी बुनियादी सुविधाएं तो जरूरी है ही इसके साथ ही स्वास्थ्य और शिक्षा भी काफी ज्यादा जरूरी है। शहनाज जिस इलाके से आती है उस इलाके में महिलाओं को घर से बाहर निकलना भी मना है। ऐसे में शिक्षा के क्षेत्र में महिलाओं का काफी कम योगदान देखने को मिलता है।

सहना चाहती है कि वे बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ के अभियान को ज्यादा महत्व देकर उस दिशा में आगे बढ़ने के लिए गांव की बेटियों को प्रेरित करें। इसी सपने को लेकर उन्होंने राजनीति में कदम रखा और पहले ही प्रयास में कामयाब भी हो गई।

About the Author: Rani Patil

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.