2 माह की बेटी के लिए चाँद पर खरीदी सूरत के व्यापारी ने जमीन

2 माह की बेटी के लिए चाँद पर खरीदी सूरत के व्यापारी ने जमीन

अपने बेटों और बेटियों के लिए पिता क्या कुछ नही करता है। वह उसे सबसे खास तोहफा देना चाहता है, इसी तरह का कुछ काम सुरत के एक व्यापारी द्वारा अपनी बेटी के लिए किया गया है।
सूरत के सरथाणा के रहने वाले विजय कथेरिया ने अपनी 2 महीने की बेटी नित्या के लिए उपहार के रूप में चाँद पर जमीन खरीद कर दी है। विजय काँच के व्यापारी है, जो मूल रूप से सौराष्ट्र के है।
चांद पर जमीन लेने के लिए विजय ने जमीन खरीदने के लिए, न्यूयार्क इंटरनेशनल लुनार लैंड रजिस्ट्री कम्पनी को ईमेल सेंड किया था।

बेटी को देना चाहते थे कुछ खास

2 माह की बेटी के लिए चाँद पर खरीदी सूरत के व्यापारी ने जमीन
2 माह की बेटी के लिए चाँद पर खरीदी सूरत के व्यापारी ने जमीन

विजय 2 महीने पहले ही बेटी के पिता बने थे। बेटी के जन्म के बाद ही, अपनी बेटी को विजय ने कुछ खास उपहार देने का मन बना लिया था। तब नित्या के पिता ने बेटी को एक ऐसा उपहार दिया। जो कल्पना से काफी परे है। और ये उपहार अन्य उपहारों की तुलना में कतई अलग तरह का था।

कम्पनी से किया ईमेल के जरिये सम्पर्क

2 माह की बेटी के लिए चाँद पर खरीदी सूरत के व्यापारी ने जमीन
2 माह की बेटी के लिए चाँद पर खरीदी सूरत के व्यापारी ने जमीन

विजय कथेरिया ने न्यूयार्क इंटरनेशनल लुनार लैंड रजिस्ट्री को ईमेल भेजकर कम्पनी से सम्पर्क किया। और 13 को ही चन्द्रमा पर जमीन खरीदने के लिए ऑनलाईन रेजिस्ट्रेशन किया। कम्पनी द्वारा एक एकड़ जमीन लेने वाले विजय के इस आवेदन को स्वीकार कर लिया गया।
इसके बाद कम्पनी ने जरूरी कार्यवाही पूरी की और विजय कथेरिया को जमीन ख़रीदने की मंजूरी दे दी। उसके बाद कम्पनी ने इससे जुड़े सभी कागजात विजय को भेजे।

चांद पर जमीन खरीदने वाले पहले व्यवसायी है विजय कथेरिया

 

2 माह की बेटी के लिए चाँद पर खरीदी सूरत के व्यापारी ने जमीन
2 माह की बेटी के लिए चाँद पर खरीदी सूरत के व्यापारी ने जमीन

विजय कथेरिया चांद पर जमीन लेने वाले पहले बिजनैसमैन है। नित्या जल्द ही चाँद पर जमीन खरीदने वाली सबसे कम उम्र की मालिक बनने वाली हैं. वैसे बता दे बॉलीवुड से दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत और शाहरुख खान भी चाँद पर जमीन खरीदी हैं.

एक तरफ यूरोपियन अंतरिक्ष एजेंसी चांद पर 2020 से 2030 के बीच ‘अंतर्राष्ट्रीय गांव’ बनाने की तैयारी में है तो दूसरी तरफ, अमेरिका की नासा चांद पर एक बेस बनाने की. रूस की अंतरिक्ष एजेंसी Roscosmos और चीन की CNSA भी इसी तरह के बेस चांद पर बनाने की योजना रखते हैं. इन तमाम कोशिशों के चलते चांद की ज़मीन पर हक़ को लेकर कानूनी पहलुओं पर अक्सर बहस की गुंजाइश रहती है.

About the Author: goanworld11

Indian blogger

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.