यात्रि भरी बस के ड्राइवर को आई मिर्गी, 42 वर्षीय महिला ने संभाला स्टेरिंग, बचा ली सभी की जान

एक महिला वह सारे काम कर सकती है जो पुरुष कर सकता है। इसका एक उत्तम उदाहरण महाराष्ट्र के पुणे से सामने आया है। महाराष्ट्र के पुणे में 25 यात्रियों से भरी हुई 1 वर्ष तेज रफ्तार से अपने गंतव्य की ओर बढ़ रही थी कि तभी बस के चालक को मिर्गी का दौरा पड़ गया। बस का ड्राइवर पूरी तरह से मिर्गी के दौरे में आ गया जिसके कारण बस तुरंत अनियंत्रित हो गई और सभी यात्री काफी डर गया।

बस रास्ते पर जगमगाती हुई चल रही थी। सभी यात्री काफी डर चुके थे कि अब आगे जाकर बस का क्या हश्र होगा। कि तभी बस में बैठी हुई एक महिला ने तुरंत ड्राइवर की सीट पर जाकर स्टेरिंग संभाल लिया।

यात्रि भरी बस के ड्राइवर को आई मिर्गी, 42 वर्षीय महिला ने संभाला स्टेरिंग, बचा ली सभी की जान
यात्रि भरी बस के ड्राइवर को आई मिर्गी, 42 वर्षीय महिला ने संभाला स्टेरिंग, बचा ली सभी की जान

लगभग 25 किलोमीटर तक महिला ने चलाई बस

बस चलाने वाली इस महिला का नाम योगिता सातव बताया जा रहा है। इस महिला की उम्र 42 वर्ष है और यह दो बच्चों की मां है। महिला ने इतनी आपातकालीन स्थिति में तुरंत अपनी सूझबूझ का इस्तेमाल करते हुए बस में बैठे हुए 25 यात्रियों की जान बचा ली। बता दें कि महिला ने लगभग 24 किलोमीटर तक बस चला कर सभी की जान बचा ली। इतना ही नहीं योगिता सातव नाम की इस महिला ने तुरंत बस के ड्राइवर को अस्पताल में भी भर्ती करवाया जिसके बाद ड्राइवर का इलाज किया गया और वह खतरे से बाहर आ गया। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस मास में बैठे हुए सभी यात्री वाघोली से मोराची चिंचोली पिकनिक मनाने गए हुए थे। पिकनिक खत्म करके शाम करीब 5:00 बजे यह सभी घर वापस लौट रहे थे इसी बीच यह घटना घटित हुई।

यात्रि भरी बस के ड्राइवर को आई मिर्गी, 42 वर्षीय महिला ने संभाला स्टेरिंग, बचा ली सभी की जान
यात्रि भरी बस के ड्राइवर को आई मिर्गी, 42 वर्षीय महिला ने संभाला स्टेरिंग, बचा ली सभी की जान

ड्राइवर को आ गई थी मिर्गी

इस पूरी घटना के बारे में बताते हुए योगिता ने कहा कि वे सभी बस के अंदर जब सफर कर रहे थे तब अचानक बस के ड्राइवर ने उनसे कहा कि उसे अचानक चक्कर आने लगे हैं और उसे आंखों के सामने अंधेरा दिखाई दे रहा है। जिसके बाद बस में के सभी यात्री चिल्ला पुकारा करने लगे।

ड्राइवर ने बस रोक दी लेकिन वह एरिया इतना सुनसान था कि वहां पर दूर-दूर तक कोई भी नजर नहीं आ रहा था और धीरे-धीरे अंधेरा भी हो रहा था। इसलिए सभी यात्री किसी भी हालत में वहां रुकना नहीं चाहते थे। तभी अचानक योगिता ने कहा कि उसे फोर व्हीलर चलानी आती है इसलिए वह बस चलाने की कोशिश भी कर सकती है। जिसके बाद बस में बैठे यात्रियों ने भी योगिता पर भरोसा जताया।

यात्रि भरी बस के ड्राइवर को आई मिर्गी, 42 वर्षीय महिला ने संभाला स्टेरिंग, बचा ली सभी की जान
यात्रि भरी बस के ड्राइवर को आई मिर्गी, 42 वर्षीय महिला ने संभाला स्टेरिंग, बचा ली सभी की जान

बस चलाने में हुई महिला को दिक्कत

बस में बैठे कुछ अन्य यात्रियों की मदद से ड्राइवर को उसके सीट से हटाया गया और ड्राइवर की सीट पर योगिता जाकर बैठ गई और उसने बस काट की। हालाकी योगिता पहली बार बस चला रही थी। लेकिन इससे पहले योगिता को कार चलाने का काफी अनुभव था।

लेकिन बस और कार के गियर में काफी अंतर होता है इसलिए शुरुआत में योगिता को बस के गियर समझने में काफी दिक्कत हुई लेकिन आखिरकार उसने किसी भी तरीके से बस को चला ही लिया और सभी यात्रियों की जान में जान आई। इस घटना की जानकारी वायरल होते ही सभी लोग योगिता नाम की इस महिला की जमकर तारीफ करने लगे और उसकी बहादुरी की दाद देने लगे।

About the Author: Rani Patil

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.