नेवी में सब लेफ्टिनेंट बनने के बाद अपने पैतृक गांव पहुंची बेटी, स्वागत में गांव वालों का 5 KM लंबा जुलूस

हमारे देश में किसी समय लोग बेटियों को ज्यादा पढ़ाते लिखाते नहीं थे लेकिन अब धीरे-धीरे लोग जागृत हो रहे हैं और बेटियां भी बेटों की तरह हर क्षेत्र में नाम रोशन कर रही है। ऐसी एक बेटी है राजस्थान की जिसने नेवी में सब लेफ्टिनेंट के पद को हासिल करके अपने ही नहीं बल्कि पूरे गांव का नाम रोशन कर दिया।

इस बेटी का नाम है सुनीता सैनी। सुनीता सैनी जैसे ही नेवी में अफसर बनकर ट्रेनिंग के बाद अपने पैतृक गांव लौटी तो गांव वालों का भी सीना गर्व से चौड़ा हो गया और पूरे गांव वालों ने सुनीता का काफी जोरदार स्वागत भी किया।

नेवी में सब लेफ्टिनेंट बनने के बाद अपने पैतृक गांव पहुंची बेटी, स्वागत में गांव वालों का 5 KM लंबा जुलूस
नेवी में सब लेफ्टिनेंट बनने के बाद अपने पैतृक गांव पहुंची बेटी, स्वागत में गांव वालों का 5 KM लंबा जुलूस

ट्रेनिंग पूरी कर गांव लौटी थी सुनीता

25 साल की सुनीता सैनी साल 2021 के जनवरी महीने में भारतीय नौसेना में चयनित की गई थी। चयनित होने के बाद 9 महीने की ट्रेनिंग के लिए सुनीता सैनी मुंबई में थी और 14 नवंबर के दिन वह अपनी ट्रेनिंग पूरी करके अपने पैतृक गांव लौटी। बता दें कि सुनीता सैनी राजस्थान के झुंझुनूं जिले की उदयपुरवाटी तहसील के गांव जोधपुरा की रहने वाली है।

सुनीता सैनी के घर में उनके दो भाई बहन भी है। बता दें कि सुनीता सैनी के पिता हजारी लाल सैनी भी भारतीय नौसेना में ही कार्यरत थे परंतु अब वे सेवानिवृत्त हो चुके। बेटी की इस कामयाबी से हजारी लाल सैनी भी काफी गदगद हुए।

नेवी में सब लेफ्टिनेंट बनने के बाद अपने पैतृक गांव पहुंची बेटी, स्वागत में गांव वालों का 5 KM लंबा जुलूस
नेवी में सब लेफ्टिनेंट बनने के बाद अपने पैतृक गांव पहुंची बेटी, स्वागत में गांव वालों का 5 KM लंबा जुलूस

गांव वालों ने किया जोरदार स्वागत

सुनीता सैनी से अपने गांव लौटने की खबर जैसे ही गांव वालों को पता चली तो सभी लोगों ने सुनीता का स्वागत करने के लिए पलक पावडे बिछा दिए। सुनीता का जोरदार स्वागत करने के लिए पूरे गांव में ही जोर शोर से तैयारियां की। सुनीता के आगमन पर ढोल नगाड़े बजाकर और पटाखे फोड़ कर सुनीता का स्वागत किया गया।

सुनीता को घर तक लाने के लिए घोड़े का इंतजाम किया गया। गांव के सभी लोगों ने फूल मालाएं पहनाकर सुनीता का अभिनंदन किया और नाचते गाते सुनीता का स्वागत किया। आपको जानकर हैरानी होगी कि सुनीता का स्वागत करने के लिए लगभग 5 किलोमीटर तक लोगों ने भीड़ इकट्ठा कर दी थी।

नेवी में सब लेफ्टिनेंट बनने के बाद अपने पैतृक गांव पहुंची बेटी, स्वागत में गांव वालों का 5 KM लंबा जुलूस
नेवी में सब लेफ्टिनेंट बनने के बाद अपने पैतृक गांव पहुंची बेटी, स्वागत में गांव वालों का 5 KM लंबा जुलूस

सोशल मीडिया यूजर्स दे रहे शुभकामनाएं

अपने गांव के लोगों के द्वारा अपने लिए इतनी सारी खुशियां देखकर सुनीता भी काफी गदगद हो गई। बेटियों का सम्मान इस प्रकार से हो तो निश्चित रूप से भविष्य में बेटियों के लिए बहुत ही उज्जवल भविष्य अपने रास्ते खोल सकता है।

बेटियों की जीत पर इसी प्रकार से उन्हें प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए ताकि समाज में बेटा और बेटी के बीच पनप रहे भेद को जल्द से जल्द खत्म किया जा सके और सभी लोग मुख्यधारा से जुड़ सके। जैसे ही यह खबर सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो सभी ने सुनीता सैनी के लिए अपनी शुभकामनाएं व्यक्त की और कहा वालों के द्वारा किए गए इस स्वागत को काफी सराहा।

About the Author: Rani Patil

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.