जाने वजह मनुष्य दिन के बजाय रात में क्यों सोते हे ?

जाने वजह मनुष्य दिन के बजाय रात में क्यों सो-ते हे ?

जाने वजह मनुष्य दिन के बजाय रात में क्यों सो-ते हे ?

जाने वजह मनुष्य दिन के बजाय रात में क्यों सोते हे ?
जाने वजह मनुष्य दिन के बजाय रात में क्यों सोते हे ?

हमें क्यों सोना चाहिए?

सीडीसी के अनुमानों के अनुसार, अमेरिका में लगभग 35% वयस्कों को रात में छह घंटे की नींद नहीं मिलती है। कई तो रात भर काम करते हैं और पूरी तरह से नींद खो देते हैं, जिसके परिणामस्वरूप नींद की कमी का निर्माण होता है, जो शरीर को कई तरह से प्रभावित करता है, जिसमें प्रतिरक्षा प्रणाली, उपस्थिति और मस्तिष्क के कार्य पर प्रतिकूल प्रभाव शामिल हैं।

सूजी हुई आंखें और काले घेरे, लालसा और भूख जो मोटापे में योगदान कर सकती है, काम पर या घर पर काम पर एकाग्रता की कमी, खराब प्रतिरक्षा के कारण बार-बार संक्र-मण कुछ ऐसे तरीके हैं जो पर्याप्त नींद की कमी के कारण हमारे शरीर को प्रभावित करते हैं।

हमें क्यों सोना चाहिए?

जाने वजह मनुष्य दिन के बजाय रात में क्यों सोते हे ?
जाने वजह मनुष्य दिन के बजाय रात में क्यों सोते हे ?

इष्टतम स्वास्थ्य और कार्य के लिए औसत वयस्क को प्रतिदिन 6 से 8 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है क्योंकि शोध से पता चलता है कि नींद आपके शरीर को फिर से भर देती है और पुनर्जीवित करती है। हालांकि, अध्ययनों से पता चलता है कि 60% से अधिक वयस्क लगातार इन अनुशंसित घंटों की नींद से कम हो जाते हैं।

हमारा शरीर न्यूरोट्रांसमीटर एडेनोसाइन के परिसंचारी स्तर को बढ़ाकर और हमारी सर्कैडियन घड़ी से संकेतों का उपयोग करके नींद का आह्वान करता है, जो हमारे दैनिक लय को नियंत्रित करता है। ये दोनों प्रणालियां हमारे लिए सोने का सबसे अच्छा समय निर्धारित करने के लिए मिलकर काम करती हैं। हम में से अधिकांश लोग “उनींदापन” के चरम स्तर पर सुबह 12 बजे से सुबह 6 बजे के बीच और दोपहर 2 से 4 बजे के बीच पहुंच जाते हैं।

नींद की कमी शरीर और दिमाग दोनों को प्रभावित करती है। हमारी सर्कैडियन घड़ी हमारे शरीर के कार्यों को नियंत्रित करती है, जिसमें रक्तचाप में उतार-चढ़ाव, शरीर का तापमान और विभिन्न हार्मोन और पाचन एंजाइमों का स्तर शामिल है। शिकागो विश्वविद्यालय में मनुष्यों में नींद की कमी के अध्ययन में, स्वयंसेवकों ने लगातार 6 दिनों तक रात में केवल 4 घंटे सोने के लिए रक्तचाप में वृद्धि, तनाव हार्मोन कोर्टिसोल के स्तर में वृद्धि और एंटी-बॉडी के स्तर में कमी का अनुभव किया। फ्लू के टीके। उन्होंने टाइप 2 मधुमेह के अग्रदूत इंसुलिन प्रतिरोध के लक्षण भी दिखाए।

नींद की कमी भी चिड़चिड़ापन और थकान का कारण बनती है और स्मृति और ध्यान में हस्तक्षेप करती है, जिसके परिणामस्वरूप बिगड़ा प्रतिक्रिया समय, निर्णय और दृष्टि होती है। नींद का कर्ज जितना अधिक होगा, स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव उतना ही अधिक होगा, जैसे वजन बढ़ना, हृदय रोग, मधुमेह और यहां तक ​​कि स्ट्रोक।

नींद की कमी के प्रभावों की मरम्मत
जिन वयस्कों को वर्कवीक के दौरान अनुशंसित घंटों की नींद नहीं मिलती है, उन्हें सप्ताहांत में इसकी भरपाई करने पर ध्यान देना चाहिए। स्वस्थ जीवन के लिए पर्याप्त नींद उतनी ही महत्वपूर्ण है जितना कि आहार और व्यायाम। व्यस्त कार्यक्रम वाले लोगों के लिए नींद का कर्ज चुकाना चुनौतीपूर्ण हो सकता है, लेकिन अगले सप्ताह में प्रति रात कुछ अतिरिक्त घंटे की नींद जोड़ना एक लंबा रास्ता तय करता है।

खराब नींद के प्रतिकूल प्रभावों को पूरी तरह से ठीक करने में कुछ सप्ताह या महीने भी लग सकते हैं, लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि आप सप्ताह में कुछ दिन अलार्म बंद करके सोएं और तरोताजा और आराम से उठें। ऋण के एक नए चक्र में वापस जाने से बचना भी उतना ही महत्वपूर्ण है। अपनी नींद को अपने शेड्यूल में शामिल करें और उसी के अनुसार अपने दिन और रात की योजना बनाएं।

दिन के समय झपकी लेना
सही समय चुनें: दिन के गलत समय पर झपकी लेना आपके नियमित सोने के कार्यक्रम को बाधित कर सकता है। दिन में झपकी लेने का सबसे अच्छा समय दोपहर के भोजन के बाद होता है, जब शरीर की ऊर्जा का स्तर गिरना शुरू हो जाता है।

संक्षिप्त रहें – सुनिश्चित करें कि आप दिन में केवल 20 से 30 मिनट की छोटी झपकी लें। एक घंटे या उससे अधिक समय तक चलने वाली झपकी रात में नींद की समस्या पैदा कर सकती है।
सही जगह चुनें – कम रोशनी और कम से कम शोर वाले आरामदायक कमरे का चयन करके अपने रीप्ले की अच्छी तरह से योजना बनाएं।
रात को सोना

कैफीन का सेवन सीमित करें – दोपहर के बाद बहुत अधिक कैफीन का सेवन आपको रात में सतर्क कर सकता है और रात में गहरी नींद में बाधा उत्पन्न कर सकता है।

सक्रिय रहें – नियमित रूप से व्यायाम करें ताकि बिस्तर पर जाने पर आपको थकान महसूस हो।
उत्तेजना कम करें: सोने से पहले (कम से कम एक घंटे पहले) सेल फोन और कंप्यूटर को बंद करके अपने मस्ति-ष्क को बंद होने दें। यदि आप फोन का उपयोग करते हैं, तो आंखों पर इसे आसान बनाने के लिए स्मार्टफोन पर बैकलाइट या नाइटलाइट चालू करें। बिस्तर पर छपी हुई किताब पढ़ना आपके दिमाग को आराम और शांत करने का एक शानदार तरीका हो सकता है।

 

About the Author: goanworld11

Indian blogger

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.