चप्पल की कमी से जूझ रहा है इतना बड़ा देश, चप्पल पहनने के लिए लोग परेशान

चप्पल की कमी से जूझ रहा है इतना बड़ा देश, चप्पल पहनने के लिए लोग परेशान

क्या आपने सुना है कि कभी कोई देश चप्पलों की कमी जूझ रहा हो? शायद नही, सुनने में भी ही अजीब से लगता है। की कोई देश कैसे चप्पलों की कमी स जूझ सकता है।लेकिन आज हम आपको एक ऐसे देश के बारे में बताने जा रहे है जो वाकई में चप्पलों की कमी से जूझ रहा है।

चप्पल की कमी से जूझ रहा है इतना बड़ा देश, चप्पल पहनने के लिए लोग परेशान
चप्पल की कमी से जूझ रहा है इतना बड़ा देश, चप्पल पहनने के लिए लोग परेशान

ये देश है ब्रिटेन, जी हां ब्रिटेन एक ऐसा देश है जो आजकल चप्पलों की कमी से जूझ रहा है। ब्रिटेन में राष्ट्रीय स्तर पर चप्पलों की कमी महसूस हो रही है। इसके चलते ब्रिटेन में होटलों और स्पा ने अपने ग्राहकों निवेदन किया है वो घर से चप्पल लाए। सिर्फ होटलों और स्पा ही नहीं बल्कि आम आदमी भी चप्पलों की कमी का सामना कर रहा है।

दरअसल, ग्राहकों ने ट्रिप एडवाइजर टिप्पणी करते हुए लिखा है कि उन्हें होटल और स्पा उनसे अनुरोध कर रहे हैं कि वो घर से चप्पल लेकर आये। इस कारण उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. ग्राहकों के दुख का कारण दूसरा भी है, इनका कहना कि वो पहलर की तरह सर्विसेज न मिलने खुश नही है एक ग्राहक ने बताया कि एसेक्स के ग्रीनवुड्स होटल और स्पा में उन्होंने बुकिंग की थी. उस होटल ने उन्हें एक अजीबोगरीब मेल भेजा. इस मेल में लिखा था, ‘नेशनल स्लिपर्स की शॉर्टेज की वजह से अपने घर से चप्पल लाना जरूरी है, क्योंकि वो होटल में चप्पल नहीं दे पाएंगे.’ क्या आपको भी कभी ऐसा मेल आया है कभी? शायद नही।

 

किस कारण हो रही चप्पलों की कमी

चप्पल की कमी से जूझ रहा है इतना बड़ा देश, चप्पल पहनने के लिए लोग परेशान
चप्पल की कमी से जूझ रहा है इतना बड़ा देश, चप्पल पहनने के लिए लोग परेशान

आपको बता दें कि ब्रिटेन में सिर्फ चप्पल ही नहीं अन्य चीजों को लेकर भी कमी आ रही है। सप्लाई चेन को नुकसान इसलिए पहुंचा है क्योंकि कोरोना महामारी के दौरान भारी वाहन चलाने वाले ड्राइवरों में कमी देखने को मिली है। होटल और बड़े व्यापार ऐसी चीजों को थोक में खरीदते थे इस वजह से उनके पास सामानों की कमी हो रही है।

रिपोर्ट के अनुसार जब से लॉकडाउन खत्म हुआ है और कोविड के मामलों में कमी आई है, तब से ही लोग बाहर घूमने जाने का प्लान बना रहे हैं। ऐसे में चप्पलों की कमी होटलों के लिए बड़ा नुकसान साबित हो सकती है। 90% प्रतिशत होटलों के इस रवैये से परेशान नजर आ रहे ह कई होटलों में शैंपू, तौलिया आदि की भी कमी देखने को मिल रही है

About the Author: goanworld11

Indian blogger

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.