गजब : 60 मीटर साड़ी पर लिखा है 10 से ज्यादा भाषाओं में 32,200 बार ‘जय श्री राम’.

गजब : 60 मीटर साड़ी पर लिखा है 10 से ज्यादा भाषाओं में 32,200 बार ‘जय श्री राम’.

आंध्र प्रदेश के धर्मावरम इलाके में एक रामभक्त की गजब की भक्ति देखने को मिली। यहां के एक शख्स जिनका नाम बुनकर जुजारू नागराजू है इन्होंने एक ऐसी साड़ी तैयार की है जो लम्बाई में 60 मीटर लम्बी है और 44 इंच चौड़ी साड़ी है। ये एक सिल्क की साड़ी है। इस साड़ी की सबसे बड़ी खासियत ये है कि इस साड़ी पर 13 भाषाओं में 32200 बार जय श्री राम लिखा हुआ है। नागराजू की इस कलाकृति से दुनियां भर के लोग बहुत प्रभावित हो रहे है।

गजब : 60 मीटर साड़ी पर लिखा है 10 से ज्यादा भाषाओं में 32,200 बार 'जय श्री राम'.
गजब : 60 मीटर साड़ी पर लिखा है 10 से ज्यादा भाषाओं में 32,200 बार ‘जय श्री राम’.

इस साड़ी का नाम नागराजू ने राम वस्त्रम रखा है। ये नाम भी लोगो को खूब प्रभावित कर रहा है देश विदेश में ये साड़ी काफी चर्चा बटोर रही है।
नागराजू सत्य साईं जिले के धर्मावरम के रहने वाले है। नागराजू हथकरघा बुनकर है। नागराजू अपनी कला के लिए अपने क्षेत्र में बहुत प्रसिद्ध है। नागराजू ने इस साड़ी को बनाने के बाद देश विदेश में अपने हुनर का डंका बजवा दिया है। नागराजू आजकल दुनियां भर में अपनी कला के दम पर खूब नाम कमा रहे है।

गजब : 60 मीटर साड़ी पर लिखा है 10 से ज्यादा भाषाओं में 32,200 बार 'जय श्री राम'.
गजब : 60 मीटर साड़ी पर लिखा है 10 से ज्यादा भाषाओं में 32,200 बार ‘जय श्री राम’.

इस साड़ी में और भी बहुत खूबियां है। इस साड़ी में 13 अलग अलग भाषाओं में जय श्री राम लिखने के अलावा सुंदरकांड से भगवान पुरषोत्तम राम के अलग अलग 168 चित्र भी प्रकाशित किये गए है जो कि हाथ की कला से बनाये गये है।इस साड़ी को तैयार करने में तकरीबन 16 किलो रेशम का कपड़ा खर्च हुआ है। नागराजू ने इस साड़ी को बनाने में अपनी सेविंग से 1 लाख 50 हजार रुपये लगाए है। नागराजू का कहना है कि, वो इस साड़ी को अयोध्या में रामलला को उपहार स्वरूप भेट करेंगे।

About the Author: goanworld11

Indian blogger

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.